Advertisement

Dc Generator का सिद्धांत क्या है?||D.C. Generator Parts in Hindi||Dc Generator Diagram||


||What is the principle of DC generator?||D.C. Generator Parts in Hindi||D.C. generator Diagram||डीसी जनरेटर का सिद्धांत क्या है? || डी.सी. जेनरेटर पार्ट्स हिंदी में || डी.सी. जेनरेटर आरेख ||

Dc Generator||दिष्ट धारा जनित्र||
DC Generator

  1. Dc Generator||दिष्ट धारा जनित्र||
  2. Dc Generator Working Principle|| डी.सी. जनित्र का सिद्धान्त||
  3. D.C. Generator Parts in Hindi||डीसी. जनित्र की मौलिक आवश्यकताएँ निम्न प्रकार हैं||


Dc Generator in Hindi ||दिष्ट धारा जनित्र||


विधुत शक्ति उत्पादन की मुख्य विधि है Dc Generator या दिष्ट धारा जनित्र। विद्युत शक्ति का अधिकांश उत्पादन प्रत्यावर्ती धारा के रूप में आल्टरनेटर के द्वारा किया जाता हैजनित्र/प्रत्यावर्तक/Generator के अतिरिक्त व्यापारिक स्तर पर विद्युत शक्ति के उत्पादन की कोई अन्य व्यावहारिक विधि वर्तमान में उपलब्ध ही नहीं हैं,
जल, वायु, वाष्प, परमाणु ऊर्जा, पेट्रोलियम ईधन आदि के द्वारा टरबाइन को प्रचालित करके यांत्रिक शक्ति उत्पन्न की जाती है और उस यांत्रिक शक्ति से जनित्र/Generator को प्रचालित कर विद्युत शक्ति उत्पन्न की जाती है।

Dc Generator Diagram;-


Principal of D.C. Generator|| डी.सी. जनित्र का सिद्धान्त||,dc generator diagram
dc generator diagram

Dc Generator Working Principle|| डी.सी. जनित्र का सिद्धान्त||



डीसी.जनित्र(D.C.Generator)याडायनमो, फैराडे के विद्युत-चुम्बकीय प्रेरण सिद्धान्त पर आधारित होता है। इस सिद्धान्त के अनुसार;-
 "यदि किसी चालक को किसी चुम्बकीय क्षेत्र मे इस प्रकार प्रवाहित किया जाए कि उसकी गति से चुम्बकीय बल रेखाओं का छेदन होता हो तो उस चालक/Conductor में विधुत वाहक बल पैदा होता है।"

  1. जनित्र/Generator
  2. डायनमो/Dynamo


(1) Generator/जनित्र

यांत्रिक ऊर्ज(Mechanical-Energy) को वैद्युतिक ऊर्जा(Electrical-Energy) मे परिवर्तित करने वाली मशीन, जनित्र/Generator कहलाती है। यदि मशीन Direct-Current  पैदा करती है तो डीसी. जनित्र (DC Generator) और यदि Alternating-Current पैदा करती है तो (AC Generator) या आल्टरनेटर कहलाती है।


(2) Dynamo/डायनमो

यांत्रिक ऊर्जा से Direct-Current पैदा करने वाली छोटे आकार की मशीन डायनमो कहलाती है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के वाहनों में बैटरी-चार्जिंग के लिए किया जाता है।

Also Read:- 
1.     Crystal Oscillator क्या होता है? Crystal Oscillator की कार्यप्रणाली?Click Here
2.     Sodium Vapour Lamp क्या है? इसकी कार्यप्रणाली(Working) और उपयोग।Click Here

3.     Neon Lamp क्या है? Neon लैंप की कार्य-प्रणाली? और उपयोग क्या है?Click Here

डीसी. जनित्र की मौलिक आवश्यकताएँ निम्न प्रकार हैं-

  1. चुम्बकीय फिल्ड पोल
  2. आर्मेचर
  3. कम्यूटेटर या ब्रश आदि
  4. यांत्रिक ऊर्जा

D.C. Generator Parts in Hindi;-

  1. Field-Pole ||फील्ड पोल||
  2. Laminated Pole with Shoe ||शू सहित लेमिनेद्रेड पोल||
  3. Moulded-Pole ||मोल्डेड पोल||
  4. Armature ||आर्मेचर||
  5. Commutator ||कम्यूटेटर||
  6. Brush and Brush-Holder ||ब्रश तथा ब्रश-होल्डर||
  7. Brush-Lead ||ब्रश-लीड||
  8. Rocker Plate ||रॉकर प्लेट||
  9. End Cover ||एण्ड कवर||
  10. Armature ||आर्मेचर-शाफ्ट||
  11. Shaft and Pulley ||शाफ्ट तथा पुली||
  12. Cooling-Fan ||कूलिंग-फैन||
  13. Bed-Plate ||बैड-प्लेट||
  14. Eye-Bolt ||आई-बोल्ट||
  15. Terminal-Box ||टर्मिनल-बॉक्स||

 Fild-Pole(फील्ड पोल):-

डीसी.जनित्र/Dc Generator मे छोटे आकार वाले डायनमो में तो चुम्बकीय क्षेत्र स्थापित करने के लिए स्थायी चुम्बक प्रयोग किए जाते है परन्तु बहै आकार बडे आकार वाले डाइनेमो और डीसी. जनित्र मे फील्ड पोल्स उपयोग किए जाते हैं। फील्ड पोल्स निम्न दो प्रकार के होते है,

Laminated Pole with Shoe(शू सहित लेमिनेद्रेड पोल):-

डीसी.जनित्र/Dc Generator मे इस प्रकार के पोल में, पोल तथा पोल-शू दोनों ही एक साथ लेमिनेटेड कास्ट-स्टील अथवा एनील्ड-स्टील (Annealed-Steel) से बनाय जाते हैं। इन पर फील्ड-वाइण्डिग स्थापित करके इन्हें वोल्ट्स के द्वारा योक पर कस दिया जाता है। बडी मशीनों में प्राय: यह अपनाई जाती है।

Moulded-Pole(मोल्डेड पोल):-

डीसी.जनित्र/Dc Generator मे प्रकार के पोल, योक के साथ ही मोल्डिंग द्वारा बनाए जाते हैं। ये प्राय: कास्ट-आयरन से बनाए जाते है। पोल के ऊपर फिल्ड-वाइंडिंग स्थापित करके एक लेमिनेटेड पोल-शू, पेजों द्वारा कस दिया जाता है। छोटी मशीनों में प्राय; यही विधि अपनाई जाती है।

Armature(आर्मेचर):-

डीसी.जनित्र/Dc Generator मे एक बेलनाकार ड्रम जैसा होता है जो सिलिकॉन स्टील की पत्तियों (लेमिनेशन्स) को एक-साथ 4 रिवेट करके बनाया जाता है। आमेंचर ड्रम में, आमेंच coils स्थापित करने के लिए स्लॉट कटे होते हैं।

Commutator(कम्यूटेटर):-

डीसी.जनित्र/Dc Generator मे Commutator आकार में वृत्ताकार होता है जौ हार्ड-ड्रान (Hard-Drawn) ताँबे की मोटी पत्तियों को बैकेलाइट के आधार पर कस कर बनाया जाता है। पत्तियों के बीच मे रिक्त स्थान(Air-Gap) होता है जिसमे अभ्रक भर दिया जाता है। कम्यूटेटर को आमेंचर शाफ्ट पर स्थापित किया जाता है। इसकी पत्तियों (Segments) के सिरो पर आर्मेचर-वाइंडिंग के  सिरे सोल्डर कर दिए जाते हैं। इसका मुख्य कार्य है-आर्मेचर ववॉयल्स में पैदा हुए विधुत वाहक बल को डी.सी. के रूप मे बाह्य परिपथ को प्रदान करना।

Brush and Brush-Holder(ब्रश तथा ब्रश-होल्डर)

डीसी. जनित्र/Dc Generator द्वारा उत्पन्न विधुत वाहक बल को कम्यूटेटर से बाह्य परिपथ को प्रदान करने के लिए  जौ युक्ति प्रयोग की जाती है वह ब्रश कहलाती है। ब्रश को ब्रश-होल्डर मे लगाया जाता है।

Brush-Lead(ब्रश-लीड)

डीसी. जनित्र/Dc Generator मे ब्रश के साथ जोडा गया फ्लैक्सिबिल तार का टुकडा, ब्रश-लीड या Brush-Lead कहलाता है।

Rocker Plate(रॉकर प्लेट)

डीसी. जनित्र/Dc Generator मे छल्ले के आकार की एक प्लेट होती है जो फ़्रेन्ट-एण्ड प्लेट के साथ बोल्टस द्वारा कसी होती है।

End Cover ( एण्ड कवर)

डीसी. जनित्र/Dc Generator मे कम्यूटेटर की तरफ(Side) वाले कवर को फ्रंट-एन्ड-कवर (frount End Cover) कहते हैं।

Armature(आर्मेचर-शाफ्ट)

डीसी. जनित्र/Dc Generator मे Armature/आर्मेचर-शाफ्ट को बियरिंग के द्वारा एण्ड-प्लेट्स पर कसा जाता हैं। बियरिंग की संख्या दो होती है और बेयरिंग का मुख्य कार्य आर्मेचर शाफ्ट को तीव्र-गति पर घूमने की स्वतन्त्रता प्रदान करना है।

Shaft and Pulley(शाफ्ट तथा पुली)

डी सी जनित्र/Dc Generator मे शाफ्ट के एक सिरे पर एक पुली कस दी जाती है जो मशीन को चलाने के लिए उसे टरबाइन आदि से जौड़ने के लिए प्रयोग की जाती है।

Cooling-Fan(कूलिंग-फैन)

डी सी जनित्र/Dc Generator मे मशीन को ठण्डा रखने के लिए आर्मेचर पर , कम्यूटेटर वाले सिरे के विपरीत सिरे पर, एक कास्ट-आयरन का बना पंखा लगा दिया जाता है,जेसै ही आमेचर घूमना प्रारम्भ करता है, यह भी घूमने लगता है और ठण्डी हवा देकर मशीन को ठण्डा रखता है।

Bed-Plate(बैड-प्लेट)

डीसी जनित्र/Dc Generator मे मशीन के आधार को बैड-प्लेट कहते हैं। यह कास्ट-आयरन से बनाईं जाती है और इसे बोल्ट्स के द्वारा 'फाउन्डेशन' पर कस दिया जाता हैं।

Eye-Bolt(आई-बोल्ट)

डीसी जनित्र/Dc Generator मे मशीन को उठाने के लिए प्राय: उसकी बॉडी पर एक गोल छिद्र वाला हुक लगाया जाता है जो आई-बोल्ट कहलाता है।

Terminal-Box(टर्मिनल-बॉक्स)

डीसी जनित्र/Dc Generator मे मशीन की बॉडी पर बैकेलाइट की एक मोटी शीट जड़ी रहती है इसका मुख्य कार्य है डीसी. जनित्र द्वारा पैदा किया गया विधुत वाहक बल लोड को प्रदान करना होता हैं।


Also Read:- 
1.     Crystal Oscillator क्या होता है? Crystal Oscillator की कार्यप्रणाली?Click Here
2.     Sodium Vapour Lamp क्या है? इसकी कार्यप्रणाली(Working) और उपयोग।Click Here
3.     Neon Lamp क्या है? Neon लैंप की कार्य-प्रणाली? और उपयोग क्या है?Click Here

Post a Comment

0 Comments