Also Read This

Dc Generatorक्या है? इसकी कार्यप्रणाली(Working) और उपयोग।Slip Ring Method- Split Ring Method-EMF Equation of Dc Genetator


What is the Dc Generator Working-Slip Ring Method- Split Ring Method-EMF Equation Of Dc Generator:-

What is the Dc Generator Working-Slip Ring Method- Split Ring Method-EMF Equation of Dc Genetator
www.alternating-current.in


DC Generator Working(डीसी जनित्र की कार्य प्रणाली):-


जनित्र/Generator फैराडे के विद्युत-चुम्बकीय प्रेरण(Electro-Magnetic-Induction)सिद्धान्तो पर आधारित होता है जनित्र द्वारा उत्पन्न किया गया विधुत वाहक बल आल्टरनेटिंग(Alternating) स्वभाव चाला होता हैं। 
DC Generator Working(डीसी जनित्र की कार्य प्रणाली):-
Dc Generator working


किसी जनित्र से आउटपुट विधुत वाहक बल (Electro-Magnetic-Force) प्राप्त करने की निम्न विधियाँ:-
  • स्लिप रिंग विधि(Slip Ring Method)
  • स्प्लिट रिंग विधि(Split Ring Method)

जिससे यह पता लगाया जा सकता है कि जनित्र/जनरेटर से प्राप्त होने वाला विधुत वाहक बल ए.सी.है या डी.सी।
  1. स्लिप रिंग दुवारा(Slip Ring Method)-एसी. तथा
  2. स्प्लिट रिंग या कप्यूटेटर द्वारा(Split Ring Method)-डी.सी.।

Slip Ring Method(स्लिप रिंग विधि):-

स्लिप रिंग विधि में आमेंचर लूप को दो स्लिप-रिंग से जोडा जाता है। स्लिप रिंग, दो धात्विक (ताँबे या पीतल के) छल्ले होते है, जो आर्मेचर-शाफ्ट पर अचालक पदार्थ की सहायता से लगा दिए जाता है। प्रत्येक स्लिप रिंग, एक कार्बन ब्रश के सम्पर्क में रहती है, जिससे उत्पन्न विधुत वाहक बल प्रत्यावर्ती(Alternating) प्रकार का होता है।


Slip Ring Method
Slip Ring Method

Slip Ring wave 


Split Ring Method(स्प्लिट रिंग विधि):-

स्प्लिट रिंग विधि में दो स्लिप-रिंग के स्थान पर, केवल एक ही स्प्लिट-रिंग प्रयोग की जाए तो ब्रश(A) सदैव (+) रहेगा और ब्रश(B) सदैव (-) रहेगा। जब स्प्लिट रिंग, ब्रुश B के सम्पर्क में होता है तो आउटपुट में विधुत वाहक बल प्रदान करता है,और जब ब्रश A के संपर्क में आता है तो आउटपुट (+) विधुत वाहक बल प्रदान करता है, इस प्रकार ब्रश (A) सदैव (+) और ब्रश (B) सदैव (-) रहता है


Split Ring Method
Split Ring Method
Split Ring Method wave
Split Ring wave 

Dc जनित्र की व्यापारिक स्तर पर प्रयोग करने के लिए स्प्लिट रिंग प्रयोग की जाती है और उसे कम्यूटेटर(Commutator) कहते है।

EMF Equation of Dc Generator(विधुत वाहक बल समीकरण):-

किसी जनित्र में उत्पन्न विधुत वाहक बल की गणना के लिए प्रयोग किया जाने वाला सुत्र, विधुत वाहक बल समीकरण कहलाता है।

EMF Equation of Dc Generator
EMF Equation of Dc Generator
  1. E = जनित्र दुवारा पैदा किया गया वि.वा.ब. वोल्ट्स में,
  2. ϕ = प्रति पोल चुंबकीय फ्लक्स ,वैबार में,
  3. Z = आर्मेचर चालको की संख्या
  4. N = आर्मेचर की घूर्णन गति , RPM में
  5. P = पोल्स की संख्या,
  6. A = आर्मेचर वाइंडिंग में समानांतर पंथो की संख्या।


Related pages:-



Post a Comment

0 Comments